Agar tum saath ho

उँगलियों का होना तब तक ही वाजिब जितना तुम्हारे हाथ का मेरे हाथों में असहज होना और तुम्हारे जाने के बाद उस अकेले हाथ याद की तकलीफ़. मौत क्या है जब पीछे से तुम्हें कोई पुकारे कितने ही बार बार-बार मिन्नतों के साथ और तुम पलट कर यह देखना बंद कर दो कि – किसने […]

An ode to a city with no names

एक शहर वो भी होते हैं जहाँ प्रेमी फिर से मिलने का वादा करते हैं जो गवाह होते हैं आखिरी वक्त तक इंतजार करने की बातों के रीत जाने का और शहर फिर हँसता है धीरे से एक शहर वो भी होता है जहाँ सूरज छिपता है लड़की के बालों में लगे फूलों के पीछे […]

Convincing

I always thought there was something so romantic about fighting for someone I always wondered that there was something so powerful about waiting for someone I always believed that love waited till eternity and there was something so surreal about not giving up on someone but as i sit here with a nagging pain in […]

कहाँ से लाओगे

किसी खूबसूरत सा बनाने की जिद मे लगा दोगे तुम सलीके का टाँका पर कहाँ से लाओगे वो सुबह जिसकी अलगनी में पिछली रात के टुकड़े टँगे हैं उँगलियों की चुहल और बतियाती आँखें जब आँखें मींचे हँसती थी वो ज़ोर से बेढंगी सी घूम आती पूरे गांव और नाचती थी पिघलते अंधेरों पर डाल […]

Because no one will tell you this

  They will tell you how “Anthony Bourdain” mentioned “hanging’’ on his show for 63 times before he finally “hanged himself They will tell you how Chester Bennington flirted with “quitting” before he finally did it. They will tell you how “all roads lead to home” but maybe because it sounds uncomplicated that way. They […]

इंतज़ार……..#OctoberMovie

 इंतज़ार तुम्हारे कुछ कहने का कह कर भूल जाने का इंतज़ार सर्दियों में तुम्हारी उँगलियों के ठिठुरने का और काफी के भाप में तुम्हारा अलाव ढूँढने का इंतज़ार पहाड़ के अंतिम छोर पर टिके चाँद का और उसके साथ चलने वाले अकेलेपन का इंतज़ार लहरों के जाने के बाद लौट आने का यूँ जाते वक़्त […]