यादों की निर्जन बस्ती में,पोटली लिए फिरा करती है झुमका,रिंग, हँसी,काजल,इमरोज़ के इश्क से इश्क करती है

यादों की निर्जन बस्ती में,पोटली लिए फिरा करती है झुमका,रिंग, हँसी,काजल,इमरोज़ के इश्क से इश्क करती है

Month: June 2017

बैंगनी फूल

बैंगनी फूल

“क्या बकवास खाना है यार, इसे खायेगा कोई कैसे” विशाल ने टिफ़िन खोलते ही कहा. “ अगर ४ दिन और ये “खाना खाना पड़ा तो मुझसे न हो रही इंजीनियरिंग, मैं जा रहा वापस अपनी पंडिताइन के पास.” “सुन हीरो, बाज़ार से लगी गली के […]

Because life is fucked up and Somedays never come: Postcard from P #TravelDiaries

Because life is fucked up and Somedays never come: Postcard from P #TravelDiaries

To the young girls and boys This postcard comes after a long time.Today I want to tell you that life will never fail to abuse you.No one will come to your rescue and some may  pretend to be there for you wholeheartedly. But no one […]