यादों की निर्जन बस्ती में,पोटली लिए फिरा करती है झुमका,रिंग, हँसी,काजल,इमरोज़ के इश्क से इश्क करती है

यादों की निर्जन बस्ती में,पोटली लिए फिरा करती है झुमका,रिंग, हँसी,काजल,इमरोज़ के इश्क से इश्क करती है

Month: November 2016

The Paper Boat

The Paper Boat

We strive to give it a shape Of a boat A paper boat Ready to sail Against the winds In the rhythm of flow Swaying and smiling Just like life Folding todays Shaping tomorrows Tearing yesterdays Ignoring the rough edges And there it goes In […]

हम सब में दरार है जो दिखती नहीं 2: सिर्फ ब्रेकअप से डिप्रेशन नहीं होता

हम सब में दरार है जो दिखती नहीं 2: सिर्फ ब्रेकअप से डिप्रेशन नहीं होता

दरार जो बताता है कि कुछ टूट गया है, कुछ दरक गया है, शायद आर पार नहीं, कोई टुकड़ा नहीं पर दरार बताती है कि कुछ टूटा जरुर है. कुछ पिघल गया है अन्दर मोम की तरह जो चाह कर भी वैसा नहीं हो पा […]

हम सब में दरार है, जो दिखती नहीं

हम सब में दरार है, जो दिखती नहीं

कुछ दिन पहले पोएट्री के  एक इवेंट में गयी थी .यहाँ 15 लोग आये थे, 15 अजनबी जो एक दूसरे को बिलकुल भी नहीं जानते थे, 15 कहानियाँ, 15 कवितायेँ, 15 मन  और सैंकड़ों दरारें. साथ में रहते, एक दूसरे को अपनी ज़िन्दगी में आने […]

#DearZindagi……Will you date me?

#DearZindagi……Will you date me?

Dear Zindagi I want to talk to you after a losing a closed one unexpectedly. Some time back, my phone rang at 4 am in the morning, I am not a morning person so I didn’t wake up.But the ringing never stopped. I picked up, […]

तुम फिर कोई कविता क्यूँ नहीं लिखते

तुम फिर कोई कविता क्यूँ नहीं लिखते

कल तुम्हारा ख़त मिला और तुमने लिखा कि कबाड़खाने में जब टूटा ब्रश मिला  है, और फटा कैनवास, और सूखे रंगों की शीशियां… मैंने देखा उन्हें आँखों के सामने मुंह चिढ़ाते तुम्हें भभक कर जलते जैसे चिनार के दहकते रंग तस्वीरों से अलग एक दुनिया […]

We all are November

We all are November

Here comes the November the month of autumn leaves the season takes a turn in deep sleep Like promises turn away suddenly when the morning cold speak of incomplete desires The zari border ripped of a benarasee saree i had long kept to save up […]

Dear Pseudo Feminist Girl in town

Dear Pseudo Feminist Girl in town

I wrote this piece for #DelhiPoetrySlam  retreat and was amazed at the response i got after this. My buddy at Bihar ( Remya meri jaan ), my  rockstar friend Praicey help me improvise it and my beautiful roomies at Jaipur – Neha and Sidd were […]