यादों की निर्जन बस्ती में,पोटली लिए फिरा करती है झुमका,रिंग, हँसी,काजल,इमरोज़ के इश्क से इश्क करती है

यादों की निर्जन बस्ती में,पोटली लिए फिरा करती है झुमका,रिंग, हँसी,काजल,इमरोज़ के इश्क से इश्क करती है

Month: October 2016

Travelling solo is not everyone’s cup of tea

Travelling solo is not everyone’s cup of tea

A suitcase in hand Backpack tugged at back A sling swinging along And shoelaces on She runs and runs towards a train Enter B 1 and takes a deep breath Throw off  her jacket and stretches her legs And says a voice from behind What is […]

Postcard from P : You are not there to fix someone

Postcard from P : You are not there to fix someone

Dear little boys and girls It’s been a long gap that i wrote a postcard to you. Sometimes i feel i have said it all and sometimes it occurs that i have said nothing. You will read these postcards even after i leave because words […]

पहाड़ों के लिहाफ़ में

पहाड़ों के लिहाफ़ में

    पहाड़ों के लिहाफ़ में सिमटे हुये, पैरों को सिकोड़े एक रुका हुआ वक़्त कुछ दोस्त, कई किस्से वो प्यार के सबके अपने फलसफे ज़िन्दगी की दौड़ से अलग हटकर खुद को देखते, बस देखते किसी को समझाने की जिद नहीं यादों के फोल्डर […]