यादों की निर्जन बस्ती में,पोटली लिए फिरा करती है झुमका,रिंग, हँसी,काजल,इमरोज़ के इश्क से इश्क करती है

यादों की निर्जन बस्ती में,पोटली लिए फिरा करती है झुमका,रिंग, हँसी,काजल,इमरोज़ के इश्क से इश्क करती है

Month: June 2016

Hey BRO AIB…..There is something called Adult Woman……ouch you forgot that

Hey BRO AIB…..There is something called Adult Woman……ouch you forgot that

Diyar AIB Dudes I just saw your “Adulthood in 100 seconds” video and whoa till the 99th second I was waiting that will you atleast show a snippet of a girl attaining adulthood. You understand that na? No? That happens, too much of “Yo bro” […]

हम चुप रहे …………..हम हँस दिये

हम चुप रहे …………..हम हँस दिये

  आज यहाँ पर आखिरी दिन है,जाहिर है यहाँ से जाने का मन नहीं कर रहा है आज की घूमने की लिस्ट में एक मंदिर( हाँ मंदिर आपको दुनिया के हर कोने में मिल जायेंगे), एक म्यूजियम और झील के किनारे बसा एक खूबसूरत बुक […]

दो फ्री की कॉफी और बनारस

दो फ्री की कॉफी और बनारस

कल से अपनी ट्रैवल डायरी साझा करने को लेकर पशोपेश में हूँ। हम किसी के लिये क्या करते हैं, इसका सर्टिफिकेट दिये बिना क्या हम अपने अनुभव नहीं बाँट सकते?  क्या कुछ देकर ही कुछ लिया जा सकता है?  अगर बिना कुछ दिये हमें बहुत […]

Postcard from P: Dear Women, You are doing it all wrong

Postcard from P: Dear Women, You are doing it all wrong

Scenario 1: The movie called Waiting where Kalki’s husband has met with an accident and is in coma, a newly wed she is so emotionally shaken that she does not understand why it happened with her in the first place and when she does realize that it has actually happened she breaks down. […]