यादों की निर्जन बस्ती में,पोटली लिए फिरा करती है झुमका,रिंग, हँसी,काजल,इमरोज़ के इश्क से इश्क करती है

यादों की निर्जन बस्ती में,पोटली लिए फिरा करती है झुमका,रिंग, हँसी,काजल,इमरोज़ के इश्क से इश्क करती है

Month: October 2013

Post ID: 488

<a href=”http://www.blogadda.com” title=”Visit blogadda.com to discover Indian blogs”> <img src=”http://www.blogadda.com/images/blogadda.png” width=”80″ height=”15″ border=”0″ alt=”Visit blogadda.com to discover Indian blogs” /></a>