Because life is fucked up and Somedays never come: Postcard from P #TravelDiaries

To the young girls and boys

This postcard comes after a long time.Today I want to tell you that life will never fail to abuse you.No one will come to your rescue and some may  pretend to be there for you wholeheartedly. But no one eventually will. Your struggle is unique  because it’s yours and no one else’s. Because no one else can go through it the way you have. Maybe your ideas of what life would be like or what your dreams are ,broken and bruised. Maybe you gave all of it, and life kept bogging you down. Despite all efforts, life fucked up big time . Maybe you’ve lost a loved one despite all the forever promises, maybe you never have the time you always assumed you had. And maybe, you’re just so alone. But to the ones reading this, you’ve survived and you’re here. All those times life embarrassed you still found something which sailed you through.

Then you thought about some days. Some day you will go and live in the mountains, someday you will reach alps,someday you will write a perfect poem for that special one, someday you will take your parents on a cruise and someday you will actually be alive.

And with every passing milestone you cross after life throws boulders at you, you push away that someday further away.

Because life is fucked up big time, that someday never comes any day . All you people reading this postcard, cease the moment.

Your someday is today. Live it NOW.

Love

P.

We travel away from strings that hold us back

In the dark spaces between
breathing and living
Rhythm and chaos
we all are puppets of a ticking clock
while time has no scale
it runs in anticipation
of danger
of nightmares
of an untimely call
of a scary unknown
of a sorry that has waited long
of a love that is lost and blurred
of letting go that was yours
It stays still and freezes
and watches silently
the becoming of a new life
the unbecoming of a yesterday
the moment before a hesitant kiss
an embrace when you feel the breath
 3 am nights with crazy friends
the travel that sets you free
the sun that paints the sky red
the starry night on a mountain top
In the dark spaces between
when life melts and
when life happens
we travel, travel away
from strings that hold us back

Thank You 2016 #GratitudePost1

 

13731671_1366029033426550_4363429796430621243_n

I am planning to write a series of posts as a gratitude to 2016. Before the calendars turn and we have 2017 right in front of our face, i want to say a thank you to 2016.

“Here goes another year

Leaving behind

A bucket full of memories

And a high tide that blew some away

What I learnt this year

We are never ever prepared

For what life has in store

But we deal with them anyways

Thank you 2016 for teaching me this

That I may not have answers and it’s okay

I may stumble and be on ground for a while

And that’s completely okay

What I learnt this year we are never ready for a yes

Love scares the shit out of us

And we still want to fall again

We never grow out of the idea of love

So Thank you 2016 for teaching me

That there is no perfect time, no perfect name

That you meet assholes on your way and that’s okay

That you fall in destructive love all over again

And yes that too is okay

What I learnt from this year, that it’s dirt all around us

And we should dust them often

To meet people that really should matter

That I don’t have to pretend a yes when I mean no

So Thank You 2016 for teaching me

That When you love yourself and say a no

You fucking care about if it’s rain or a snow

You just pick up an umbrella for a beautiful picture

And then soak in happiness and yay reach a juncture

Thank you 2016 for teaching me this

That I have a shot ahead like everyone else

And even if things don’t fall in place

It’s okay

And even if this does not score a boundary

That’s also okay

At least you have some words to write

And in december you think that this poem is going right

Benaras…….The Photo story

Benaras- the dreamy land of majestic ganga, the land of saffron tinted Sky and sadhus, the land of exquisite street food and the land of slow talks and long walks. Call it Kashi or Benaras, while Kashi signifes the spiritual part of this land of Moksha and Karma,  Benaras is the way of life. The sun kissed ghats, the migratory birds, the humming of the mighty Ganga, the food joints that sing to call you, the serene boat ride and of course the benarsi sarees. Kashi is so much activity going on at one time, at one place that you are mesmerized with what to capture and what to live. Like a sadhu whom i asked to pose said “You can not capture Kashi in one frame”…….I don’t want to either, i will revisit Kashi again and again. So here are the pictures (Copyright- Dr Pooja Tripathi). Sit back with a cup of tea and enjoy.

dsc_0700
The morning activity when benaras wakes up to bells and shlokas

dsc_0913

dsc_0791
The migratory birds and their short lived affair with Ganga
dsc_1110
The beautiful walls of Ghaats
dsc_1125
दो दीवाने शहर में, आबोदाना ढूंढते हैं
dsc_1327
Chai And Benaras- Uniting a benarasi, hollywood producer, Painter, a travel blogger and two dogs.
dsc_1362
The amazing graffitti will take you back to Benaras
dsc_1369
I am in love with this city like a love like a crush i can’t get over it
dsc_1583
Sarnath Buddha Temple: It is better to travel well than to arrive- Buddha
dsc_1697
I have learned that if you must leave a place that you have lived in and loved and where all your yesteryears are buried deep, leave it any way except a slow way, leave it the fastest way you can. Never turn back and never believe that an hour you remember is a better hour because it is dead. Passed years seem safe ones, vanquished ones, while the future lives in a cloud, formidable from a distance.” Sarnath Remains, Varanasi

 

Will come back with Ganga Arti pictures soon…….Leave a comment if you loved the pictures.

 

 

 

पहाड़ों के लिहाफ़ में

 

 

पहाड़ों के लिहाफ़ में

सिमटे हुये, पैरों को सिकोड़े

एक रुका हुआ वक़्त

कुछ दोस्त, कई किस्से

वो प्यार के सबके अपने फलसफे

ज़िन्दगी की दौड़ से अलग हटकर

खुद को देखते, बस देखते

किसी को समझाने की जिद नहीं

यादों के फोल्डर से

निकाल के कुछ अधूरे ख्वाब

हरी घास पर, ओस की बूँद पर बैठे

कुछ दोस्त, कई किस्से

बेबाक होने का सुकून

न कुछ प्रूव करने की घबराहट

कहीं न जाने को उतरती सीढ़ियाँ

खिड़की पर चाँद का धुंधला अक्स

अचानक से आती किसी हेडलाइट की रौशनी

रात के अंतिम पहर में

बेखयाली में हँसते

तसल्ली की 5 चाय

और बेफिक्री की मैगी

पहाड़ों के लिहाफ़ में

सिमटे हुये, पैरों को सिकोड़े

एक रुका हुआ वक़्त

कुछ दोस्त, कई किस्से

p_20161011_100649_1_2-1

 

I wish to wander…. I wish to be lost

 

IMG_20160823_145904

I wish to wander

I wish to be lost

In the places unvisited

In the stories bared

I wish to wander

I wish to be lost

In an unfamiliar street

In an unknown face

I wish to wander

I wish to be lost

With a tattered backpack

That leaks of love

I wish to wander

I wish to be lost

In the languages I don’t understand

In the embraces that come unplanned

I wish to wander

I wish to be lost

In a wrong turn

That drifts to a right moment

I wish to wander

I wish to be lost

In the kiss of a night

That turns into a flower

By first sunlight

 

 

हम चुप रहे …………..हम हँस दिये

 

IMG_20160622_091329.jpg

आज यहाँ पर आखिरी दिन है,जाहिर है यहाँ से जाने का मन नहीं कर रहा है आज की घूमने की लिस्ट में एक मंदिर( हाँ मंदिर आपको दुनिया के हर कोने में मिल जायेंगे), एक म्यूजियम और झील के किनारे बसा एक खूबसूरत बुक शॉप है।

तो अब कारवां यहाँ से आगे बढ़ेगा ।पिछले कुछ दिनों से ठीक से सो नहीं रही।मेरी एक अजीब सी आदत है, मैं कहीं फिर रही होती हूँ तो नींद में भारी कटौती करती हूँ।वो कहते हैं न “Not Drifting away from the moment”, बस इसी non drifting का सीधा- सादा तरीका है- जितना हो सके शहर को कैद कर लो, तस्वीरों में नहीं, ज़िन्दगी में।इस जगह दोबारा वापस आना शायद मुस्तकबिल में ना हो, नींद तो कभी भी पूरी की जा सकती है ।.

सुबह उठ कर मैं गेस्ट हाउस के लॉन में टहल रही हूँ ।यहाँ पर लोग बड़े बड़े आलीशान लकड़ी के घरों में रहते हैं,10 कमरों वाले चाहे रहने वाले 2 ही हों।ये सभी घरों में नहीं, रास्तों में अक्सर दौड़ते मिल जायेंगे ।यहाँ सभी को फिट रहने का शौक है।

सामने के गेट से बिलाल आता दिखाई देता है। पूछता है कि आज कहाँ जायेंगी मैडम ।मैं बताती हूँ कि आज क्लोजिंग सेरेमनी के बाद मैं पैदल ही घूमूंगी, आज मुझे टैक्सी नहीं चाहिये।बिलाल कहता है कि शमी (उसकी बीवी) मुझसे बात करना चाहती है. वह फ़ोन लगाकर देता है, मैं शमी का हाल चाल लेती हूँ। शमी मुझे घर आने का कहती है, मैं वादा करती हूँ कि अगली बार ज़रूर आऊँगी। यह “अगली बार” भी अपने में कितना अजीब शब्द हैहम अगली बार के लिये कितना कुछ छोड़ रखते हैं, और हर नये अगली बार के साथ पुराना अगली बार पीछे छूट जाता है.शमी पूछती है कि “मैडम आपकी शादी हो गयी ?” मैं बताती हूँ कि नहीं , जानती हूँ कि फ़ोन के अगले तरफ बैठी शमी को ये सुनकर थोड़ी टेंशन हो गयी होगी.

अरे बिलाल यहाँ के खाने में क्या स्पेशल है? सबसे अच्छा रेस्तरां बताओ।

मैडम इंडियन फ़ूड खायेंगी, वेजीटेरियन फ़ूड?

अरे इंडिया में जाकर इंडियन फ़ूड ही खाना है बिलाल, यहाँ का कुछ बताओ।

बिलाल मुझे एक रेस्तरां का नाम बताता है। मैं उसको ढूँढने के लिये फ़ोन का GPS खोलती हूँ।बैटरी कम का निर्देश आता है।कल रात तो पूरा चार्ज किया था, मैं सोचती हूँ ।फिर ध्यान जाता है कि व्हाट्सएप के ग्रूप्स में 1080 मेसेज हैं।मैं खीज उठती हूँ, स्मार्ट फ़ोन के उपयोग के कितने अनस्मार्ट तरीके ।मैप निकालती हूँ, बिलाल समझने में मेरी मदद करता है, ये पेपर वाला मैप है जो मुझसे कहता है “ बेटा जब तुम पैदा भी नहीं हुये थे तब से हम डायरेक्शन दिखा रहे हैं.”।

बिलाल विदा लेता है, अभी कुछ दिन पहले लिया हुआ एक झुमका मैं बिलाल को देती हूँ कि शमी को मेरी तरफ से दे देना. वह शुक्रिया कहता है और याद दिलाना नहीं भूलता कि गाड़ी की जरुरत पड़े तो मैं गार्ड को बता दूँ,वह उसे फ़ोन कर देगा.दुआ सलाम कह कर वो निकल जाता है और मैं अपनी किताब में खो जाती हूँ.

2016-06-23-14-45-35-103.jpg

थोड़े देर बाद बिलाल वापस आता दिखाई देता है हाथ में कुछ खुले पैसे दबाये .

वह उसे मेरे सामने रखे टिया टेबल पर रख देता है.

यह क्या है बिलाल.

मैडम आप जिस भी रेस्तरां में कल से खा रही हो या कहीं कुछ खरीदने गयी तो हमे कमीशन मिलता है उस जगह से आपको लाने के लिये। आपसे नहीं ले सकता मैडम, ज़मीर नहीं मान रहा।

मैं उससे कहती हूँ कि यह उसके काम का हिस्सा है.वह वापस न करे।वह नहीं मानता और पैसों को छोड़कर मेरे वालिदान को सलाम भेजकर चला जाता है।

मैं बिलाल को जाते हुये देखती हूँ, कमीशन न लेने वाले बिलाल को, आज़ाद कश्मीर से आते उम्मीदों  के गुलाम बिलाल को, अपने को इस मुल्क का बाशिंदा कहने वाले बिलाल को और फिर मैं देखती हूँ टेबल पर पड़े कुछ रुपयों को. मैं न कहती थी कि ये दुनिया बहुत खूबसूरत है।

आज मैं एक मंदिर देखने जाती हूँ ।यहाँ की हिन्दुओं की कम्युनिटी ने एक माता का मंदिर बना रखा है।कुछ इक्के दुक्के लोग दिखते हैं मंदिर में हाथ जोड़े, सर झुकाये। हर एक को लग रहा है कि उसकी दिक्कत दुनिया की सबसे बड़ी दिक्कत है और इस बार मेरी फरियाद ज़रूर पूरी होगी।इस दुनिया की सबसे बड़ी उम्मीद का नाम है भगवान.यहाँ कोई नहीं कहता कि “read the offer documents closely before investing”।चाहे करोड़ों लोग बेघर होकर,रिफ्यूजी बनकर टेंट में, कैंप में रह रहे हो पर भगवान् को एक अदद घर मिल ही जाता है।

और ये लो मुझे यहाँ, यहाँ पर एक साधु बाबा दिखाई देते हैं.चाहे आप कितने बड़े घुमंतू हों, साधुओं जैसा आपको ट्रेवल आइकॉन नहीं मिलेगा। चिलम पीते, गंजा लगाये हर हर महादेव का गान करते ये globetrotters आपको यवतमाल से लेकर यूरोप में मिल जायेंगे।

IMG_20160622_150119.jpg

 

कबीर ने कभी साधुओं के लिये कहा था :

“जाति न पूछो साधू की

पूछ लीजियो ज्ञान”

इन फक्कड़ स्टोंड साधुओं के लिये कबीर कहते :

जाति न पूछो साधू की

पूछ लीजियो कहाँ रखा है माल”

अब वापस जाना है, एअरपोर्ट 300 km दूर है। कार में हम चार लोग एअरपोर्ट जा रहे हैं।बाहर कटे हुये पहाड़ों को देखते देखते मैं बोर हो जाती हूँ, पीछे देखती हूँ कि सब अपने फ़ोन पर लगे हुये हैं। सब अकेले अकेले अपने फ़ोन पर।इन्हीं जैसे प्राणियों के लिये अज्ञेय ने कहा होगा “सब अलग अलग एकाकी पार तीरे” मैं ड्राईवर से पूछती हूँ कि यहाँ के लोक संगीत के बारे में कुछ बताये, ड्राईवर कहता है कि अब कोई लोक संगीत नहीं सुनता , सब रॉक वाले हो गए हैं । मैं उसे बताती हूँ कि वैसे तो हम भी Adele को सुनते हैं पर हमारे यहाँ शादी-ब्याह, व्रत, मुंडन हर वक़्त के लिये गाने हैं।पीछे बैठे एक सज्जन कह उठते हैं कि रबीन्द्र संगीत जैसा कुछ नहीं, मैं भोजपुरी गानों की वकालत करती हूँ, कोई पाकिस्तान कोक स्टूडियो को श्रेष्ठ बताता है। और फिर वो ड्राईवर हमे अपना फोक सोंग सुनाता है गाकर।

यही तो उद्देश्य था- हम अपनी संस्कृति पर तब ज्यादा गौरवान्वित होते हैं जब दूसरा हमे कमतर बताता है, हम लड़ते हैं कल्चरल सुप्रीमसी के लिये (इसके लिये मैं गुरुदेव टैगोर से माफ़ी मांगती हूँ )। ड्राईवर बीच में गाना रोककर बताता है कि इस गाने में प्रेमी अपनी प्रेमिका को बुलाना चाहता है मिलने के लिये और गाँव के चौक पर उसी की चर्चा चल रही है ।मैं उससे कहती हूँ कि वह गाना ज़ारी रखे, संगीत को कबसे भाषा की जरुरत पड़ गयी.गाना ख़त्म होने के बाद सब ताली बजाते हैं, फ़ोन साइड में पड़े हैं अब।

DSC_0012

 

मैं उसे बताती हूँ कि बिलकुल ऐसी ही एक ग़ज़ल जगजीत सिंह की भी है

“कल चौदहवी की रात थी

शब् पर रहा चर्चा तेरा

कुछ ने कहा वो चांद है

कुछ ने कहा वो चेहरा तेरा

हम भी वहीँ मौजूद थे

हम से भी सब पूछा किये

हम चुप रहे, हम हँस दिये

मंज़ूर था पर्दा तेरा”

IMG_20160627_011500.JPG

अब जब जगजीत सिंह आ ही गए हैं तो मैं बाहर देखने लगता हूँ, जगजीत सिंह हर सिचुएशन में आ ही जाते हैं। ऊपर आसमान की ओर देखती हूँ और सोचती हूँ “ बड़ी जल्दी थी गुरु जाने की, खूब महफ़िल जम रही होगी ऊपर”।

एअरपोर्ट पहुँच कर सिक्यूरिटी चेक के लिये जाती हूँ। वहां एक सिक्यूरिटी पर्सन पूछता है

“Are you travelling alone?

हम चुप रहे …………..हम हँस दिये।

P.S.- पोटली बाबा की में हम आपको ये नहीं बतायेंगे कि कहाँ जाना है, क्या करना है।हम आपको मिलायेंगे उन लोगों से जो एक शहर को जिंदा रखते हैं पर शहर का चेहरा कभी नहीं बन पाते, हम आपको सुनायेंगे कोई ऐसी कहानी जो आम इंसानों से निकलती है।क्यूंकि दुनिया बहुत खूबसूरत है।

Corbett National Park: A sojourn with nature

corbett1
Image source: Tripoto

Wildlife reserves and National Parks are the best way to have an escape from the mundane urban life. They give you a holiday that is in close encounter with nature, amid the greenery and natural habitat.

Jim Corbett National Park is the perfect for nature tourism. My sojourn with Jim corbett national park was due to a shoot with National Ggeographic Channel.This wildlife park is a paradise for nature lovers. The park forms the natural habitat for a diverse variety of flora and fauna.

Corbett has been thronged by tourists and wildlife lovers for a long time. Jim Corbett National Park is the oldest national park  and was established in 1936 as Hailey National Park to protect the endangered Bengal tiger and is included in Tiger reserve.

Tourism activity is not allowed in core areas of  Corbett Tiger Reserve.. Corbett remains open to tourists only from 15th November to 15th June owing to unfavorable weather conditions.

What makes the park even more accessible for tourists is its easy connectivity to important cities like Delhi by road and rail.  If you are travelling from outside Delhi, you can get  great deals  on International Flights  or  domestic flights at http://www.yatra.com/travel/cheap-air-tickets/. 

State transport buses ply regularly from Delhi to Ramnagar. A direct train also runs from Ramnagar to Delhi. I took the train from Delhi to Ramnagar.We had earlier booked a forest resort in Dhikala. For serious wildlife viewing, Dhikala – deep inside the reserve – is the place to stay.. However, the town of Ramnagar is teeming with various hotels and guest houses which you can book with the help of Yatra.

There are many taxi or car on rent to take you from station to forest reserve. Usually the guest houses will send a taxi if you inform them beforehand. Book a tiger safari with Corbett tourism, the tiger safaris are usually in morning or evening. We didn’t take up a safari because we had camped along side the Ramganga river to sight and shoot a tiger.

1512332_773379509358175_1255884993_n

Tiger sightings are not at all easy and come to rest on sheer luck, as the 200 or so tigers in the reserve are neither baited nor tracked. Your best chance of spotting one is during April to mid-June, when the forest cover is low and animals come out in search of water. Apart from tiger sightings the tourists get enticed with the variety of wildlife and birds in grasslands.

The night stay at corbett is usually accompanied with shrill of a herd of wild elephants , sloth bears, langur ,macaques, peacocks, otters and s deer including chital (spotted deer), sambars, hog deer and barking deer. Sighting  leopards, mugger crocodiles, gharials, monitor lizards, wild boars and jackals are also very common.

If you are a game for bird watching, corbett is a heaven for you..

Jim Corbett National Park other than wild safari also consists of a museum. The local villagers have also come out with innovative ideas like a mud thatch or hut with organic farming in backyard in which you can participate for a new experience.

Do visit Jim Corbett for an experience close to nature away from the addictive world of phone and internet and don’t forget to buy a jar of Apricot Jam, they are freshly made and are yummy. Plan your itinery with the help of http: //www.yatra.com/

 

H: How the traditional Arunachali tribal dress was born #AtoZChallenge

For the letter “H”, let me tell you how the beautifully woven clothes of tribes of Arunachal Pradesh ( A state in north eastern part of India) was born. A folk lore is prevalent in Aarunachal Tribes about how these colorful clothes were created.

H

Among the Apa Tani people of the Ziro plateau, the story of cloth begins from a time in the remote past when there was nothing except cloud and water until fire was born. Following this the first man on earth, Abo Tani emerged out of the soil. In an account by Hage Pilya in his book Ranth Pigeh, Abo Tani was not born in the present form and passed through many epochs until he reached the present form. He was capable of fighting with gods and goddesses as he had Koga-Miiri, a third eye at the back of the head. He also had two spikes, one at each end of the heels. In this way he captured almost all the fertile land, rivers, the useful trees and plants and chased away all the spirits to the mountains and desert regions of the earth. AboTani even captured the daytime and left the night for the spirits until the gods, fed-up with the unending fights over land captured AboTani. His third eye and the spikes on his heels were eliminated and he was cursed to remain on earth with his dual nature of both good and demoniac works.

download.jpg
Apatani women weaving the fabric (Source- Flickr)

A delegation of Village Elders called the Bulyang summoned a meeting to discuss the terrible fate that had befallen man and appropriate cloth to signify the importance of the meeting was required. It was at this time that pulyeh– cloth, first came to man. It was made by an industrious lady whose name was Ami Tamang Binyii. Binyii was the first woman to identify the seeds of cotton. She wove a white cloth but it was rejected and thrown away. A bird, the white eagle picked up the cloth and draped himself with it so he remained white forever. Binyii roamed in the forest wondering what type of cloth would please the elders. One day she found a yellow dye from a tree and an idea struck here. She possessed the red dye of a creeper and mixing this with the new colour she wove a design that received the approval of the gathering and is today identified as the famous Jilang shawl motif of the Apa tani.

images (1)

The Jilang is meant only for the most revered shaman and is appropriately worn during religious ceremonies when deities are invoked to visit the homes of the descendants of Abo Tani. A white shawl, like the one the eagle picked up is given to men during marriage celebrations.

 

I am participating in AtoZ challenge with http://www.theblogchatter.com/ .

जन्म से मृत्यु के बीच बहती – सरयू नदी

 

IMG_20151211_164130

13 साल बाद मैं अपने पैतृक गाँव “नवली” पहुंची . नवली, गोरखपुर जिले में सरयू नदी के किनारे बसा एक छोटा सा गाँव है. वही सरयू नदी जिसका वर्णन रामायण में है. इस गाँव का प्रत्येक व्यक्ति गर्व से बताता है की श्री राम ने सीता मैया के साथ वनवास जाने के लिये सरयू नदी पार की थी. अपनी पौराणिक महत्ता के कारण यह नदी इस क्षेत्र के लोगों के लिये गंगा स्वरुप है. इस गाँव में यह सरयू नदी नहीं है , “सरजू माता” , “सरजू मैया ” और “सरजू देवी ” हैं.

DSC_1022
एक दिन सुबह- सुबह हम नदी देखने या वहाँ के लहज़े में कहूँ तो सरजू मैया के दर्शन के लिये निकले. कुहासे में डूबे गाँव की दिनचर्या शुरू हो चुकी थी. कहीं गेहूं की बोआई हो रही थी तो कहीं मवेशियों को चारा दिया जा रहा था. हम गाँव के प्राइमरी स्कूल के सामने से गुज़रे तो खुले में क्लास चल रही थी, एक उंघते हुए टीचर बच्चों को पढ़ा रहे थे और बच्चे टीचर के सिवा हर ओर देख रहे थे 🙂
गाँव का चेहरा अब बदल चुका है , पहले एक गाँव में तीन छोटे गाँव हुआ करते थे जो purely जाति आधारित व्यवस्था थी. अब शिक्षा की गहरी पैठ कहें या आर्थिक सुधारों की देन ये तीनों गाँव चाहे अनचाहे ही सही आपस में मिल गए हैं. घर पक्के हो गए हैं, बिजली भी आती जाती रहती है, छतों पर डिश ऐन्टेना मुस्कुरा रहे हैं और मात्र एक-डेढ़ किलोमीटर दूर सरयू घाट पर लोग मोटरसाइकिल से जाते हैं.
सरयू नदी के लम्बे , दूर तक फैले छोर पर बैठे मैंने चारों ओर नज़र घुमायी. अभी कल को ही ख़त्म हुई किसी ज़िन्दगी की राख किनारे फैली थी तो कहीं किसी दुसरे कोने पर नयी ज़िन्दगी के जन्म को सरजू माँ आशीर्वाद दे रही थी. एक कोने पे कोई बेटा अपने पिता की आत्मा की मुक्ति के लिये सरजू माँ से प्रार्थना कर रहा था तो पास में ही कुछ बच्चे तट की रेत से सीपी की मुक्ति के लिये प्रयासरत थे.
ये है इस नदी का महत्व – इसने देखा है साल दर साल नयी कोपलों को फूटते , पुराने पत्तों को झड़ते, कभी किसी सूखे में यहाँ के लोगों की जद्दोजेहद और बाढ़ के उतरने के बाद जीवन को फिर से उठते. इसने दी है इस क्षेत्र को गन्ने की लहलहाती फसलें, ये है इनके समाज की जीवनधारा और यही है वो आलिंगन जो इन्हें आखिरी विदाई देता है.
गाँव से वापस लौटते समय हमारी गाड़ी ने जब सरयू नदी को पीछे छोड़ दिया तो मैंने पलटकर देखा और मुझे एक गहरी इर्ष्या हुई , सरजू मैया के किनारे बसे गाँव वालों से . किस तरह एक नदी इनकी पहचान है, इनका सम्मान है ,इनके जीवन का इतना अभिन्न अंग है , इनकी collective identity का नाम है – सरयू . क्या शहर में रहने वालों के पास ऐसी कोई collective identity है?
नोट: इस देश में बहने वाली बड़ी -छोटी सैकड़ों नदियाँ इस देश की जीवनधारा है . इन नदियों को प्लास्टिक और कचरे से दूषित मत कीजिये. अपने पर्यावरण को, अपनी नदियों का संरक्षण करिये. ये हैं तो हम हैं.

This slideshow requires JavaScript.