When dreams die ….Where do the ashes go

woman on lake
woman on lake

Today a conversation with a close friend about writing, about readers, about success and about unrequited dreams made me to think for hours, think about what he said, think about the set standards of success and do they equal into happiness,the jamboree turning into a carnival of praises, unfound praises, fake validations.And then i wondered that not every thing we dream or we see in future gets a life, so where do the dreams go when they die?

When dreams die

Where do the ashes go

Do they turn into

The crumpled voices

The unbounced echoes

The solitary desires

An untreaded path

The unlit whispers

The circus of plans

The silent screams

A nightmarish stream

The trapped tears

The withdrawal of tides

And moonlit eyes

The indifferent faces

The unhealed cracks

The demons which resurface

A faded touch

A ciggarette butt

And I am still wondering

When dreams die

Where do the ashes go

P.S – This is an incomplete poem, I wish to complete it one day but do remember you are never about what you own and yes make sure that nothing, absolutely nothing should own you. And in today’s world, when we are owned by everything we should not be owning, Be yourself, the world is already filled by first copies.

ताज महल पर रूमाल रख दिया है हमने

_HA_0602

हम ताज महल घूम कर आये ,मन प्रसन्न हो गया हमारा. इतनी खूबसूरत चीज़ इंसान ने बना दी यकीन ही नहीं आता. हमें तो खैर भगवान् ने बनाया है और ताज का कहाँ ठहरा कम्पटीशन हमसे. जब हम नयी बुशर्ट पहन कर मेले में जाते थे तो आस पास के तीन गाँव में हमारे चर्चे होते थे, लडकियां ऐसे झर झर गिरती थी जैसा पका हुआ आम , वो भी क्या दिन थे.

हम हर दिन गला फाड़ के चिल्लाते हैं कि हमारे देश के इतिहास को फिर से लिखने की जरुरत है.सिर्फ मुग़लों का बखान करता हमारा इतिहास कितना एंटी- हिन्दू है.हिन्दू राजाओं को दरकिनार कर हमें गलत इतिहास सिखाया गया है. खैर हम ताज देखे तो एक ही बात दिमाग में भक्क से आयी कि अगर ई मुग़ल लोग इतने सुन्दर स्मारक नहीं बनाते तो कितना खाली हो जाता हमारा देस. ताज तो पहचान है हमारे देश की.लाल किला नहीं होता तो हम झंडा कहाँ फहराते, फिर तो राष्ट्रपति भवन ही रह जाता. और हर 15 अगस्त के दिन राष्ट्रपति कहते. “एक तो साला हम झंडा नहीं फहराते, ऊपर से सारा आयोजन हमारे घर पे. सबका चाय नाश्ता का इंतज़ाम भी करो फिर कोई प्राइवेसी नाम की चीज़ भी होती है कि नहीं .“

पुराना किला न होता तो सिर्फ 10 रूपये के टिकट पर प्रेमी जोड़ों का प्यार परवान कैसे चढ़ता. तुम्हें पता भी है कि  CCD नाम की जगह में 100 रूपये की कॉफ़ी मिलती है. हमारे ज़माने में जब किसी लड़के के ब्याह के बाद कोई मड़ई में 100 रूपये चढ़ा देता था तो पूरे 10 गाँव में हल्ला होता था. क़ुतुब में पहले मंदिर था या मस्जिद, ये डिबेट को परे रखिये, पहले ऐसा लौह स्तम्भ तो बना लो जिसमें जंग न लगे. लोधी गार्डन न बना होता तो पूरी की पूरी साउथ दिल्ली जॉगिंग के लिए कहाँ जाती भला. और ताज के तो क्या ही कहने, आपको अपनी बगल वाली से बाद में प्यार होगा, ताज से पहले हो जायेगा. ज़रा कश्मीर तो होकर आइये , मुग़ल गार्डन और शालीमार गार्डन में ही तो जन्नत की खुरचन बची हुई है, बाकी कुछ तो हम और आप नॉन- मुग़ल ने कोई कसर नहीं छोड़ी उस जन्नत को दोजख बनाने में.

पर ज़रा फ़र्ज़ करिये अगर हम अड़ ही गये और सभी निशां मिटाने की सोच ही लिया तो क्या होगा. हमने पढ़ा था कि जब स्तूपों की खोज हुई तो अंग्रेजों ने उन सभी को उखड़वा के अपने घरों में गेट बना के लगवा लिया  , तो अभी से बता देते हैं कि अगर ऐसा कुछ करने का मन हो तो  त्ताज महल उखाड़ के हमें दे देना. देना हमें ही, रुमाल हमने रख दिया है.ताज महल में शिफ्ट हो जायें तो बुढ़ापा आराम से कट जायेगा .और हम भी पूरी अकड़ से कहेंगे

गर फिरदौस बर रूये ज़मी अस्त/ हमी अस्तो हमी अस्तो हमी अस्त” (धरती पर अगर कहीं स्वर्ग है, तो यहीं है, यहीं है, यही हैं).

 

 

Dear America, you need NOTA(None of the Above) more than us

 

download (2)

So USA presidential elections are round the corner and it’s disappointing to see what unworthy successors Obama has. From a hate mongering Donald Trump to Untrustworthy Hillary, time for you to have NOTA in your electoral roll.

Today I wish to write why I don’t support Hillary ( So don’t take it for granted that I support Trump).

Obviously No Donal Trump : The whole campaign of Donald Trump rests on fear- fear of immigrants,fear of Crime, fear of muslims and mexicans, fear of the campaign that says black lives matter and the fear of LGBTQ population. He thinks that America’s economy is doomed and only this billionaire has all the answers to America’s problems. If you listened carefully to his closing words at Republic National Convention, you may have wondered what country he was talking to, and about. By saying “We will build a wall”,he has left out all the moderation and subtlety behind and What’s left is a hate mongering man whom we all should fear. Nazi salutes, cultural purification, racial supremacy, anti muslim rheoteric- What times do we live in where Trump walks on the same land.

Let’s come back to Hillary Clinton and why she is not my hero.

Low marks for trustworthiness, Thy last name is Clinton: Contrary to her claim that she never sent or received information that was classified at the time from the private server, the FBI found 110 emails to have contained classified information when sent or received. the confidentiality itself means you can’t compromise. Cover up just covers up mistake (that too at secretary of State position), it does not rectify it, the results compound her troubles.

Benghazi Investigation : Hillary Clinton failed to adequately protect U.S. installations or that she attempted to spin the attacks as spontaneous when she knew they were planned terrorist operations.

Abuse of Authority, The glorious Clinton Foundation: The beneficiaries who were bestowed with Big government posts and special employees come from Clinton foundation .Cheryl Mills and Huma Abedin are among Clinton’s longest-serving and closest aides. Abedin remains involved in her campaign and they both come from foundation .

Hillary’s informal adviser :Blumenthal– Blumenthal, a seasoned journalist was an informal advisor to  Hillary Clinton,Secretary of State. Informal because Ms. Clinton apparently wanted to hire her officially but this proposal was turned down by President himself.His biggest apocalypse was suggesting that Benghazi Attack was spontaneous which proved wrong later and turned into Obama 2.0 ‘s biggest political mistake. And guess from where Mr Blumenthal was drawing his pay from as an advisor: Yes, you guessed it right- The Clinton Foundation.

The strong Woman mask : The one thing  I would have admired Hillary for if she walked out of a marriage with US president after the infamous Lewinsky scandal . So much for being the Iron lady and still coming down to same old bullshit- tolerating man’s adventures just for the sake of marriage. You lead by example and you could have done good without the Clinton last name too. I don’t see you as a role model of a woman who shapes up his own life. Instead you chose to look away when your Husband was having scandalous affairs with interns. We understand: marriage and its compulsions. That said, you can never be our hero Hillary.

I know you people don’t have choices, many of you must be saying that a first woman president is better than Islamophobic lunatic. You can no longer buy into the age-old argument that you have to vote for the lesser of two evils This is happening for the first time in the history of US Presidential elections that the candidates of the two major political parties have so unfavorable ratings. The future of this country and the amount of impact it has on the world can not rest on ignorance.

Gary Johnson of the Libertarian Party comes as a fresh air in this environment of mistrust and hate, an experienced politician , talks sense on social and economic issues and most importantly he believes in personal freedom, which is the foundation of an inclusive society. And there is Jill Stein of Green party and in her own words ‘We are basically a party that puts people, planet and peace over profit. And we put forward the real solutions that everyday Americans are just clamoring for’.

Good Luck America. The world is watching you.

P.S- When is Michelle running for President. A non conformist, strong, committed woman and a perfect wife who does Karaoke would be one amazing president

 

 

SAKSHAAT 7.0: नाम तो सुना ही होगा ..मिलिये द लल्लनटॉप की टीम से

 

group
टीम लल्लनटॉप 

जेठ की तपती दुपहरी में मैं नोयडा फिल्म सिटी पहुँचती हूँ, लल्लनटॉप के ऑफिस. एक खुशनुमा सा इनफॉर्मल सा ऑफिस जिसमें बीच बीच में “अरे ये पीस ठीक है क्या” के साथ ठहाकों की आवाज़ सुनाई देती है. लल्लनटॉप के सरपंच सौरभ से बातचीत शुरू होती है और बीच में कोई आकर पूछता है “हम विडियो में इस बार कुछ नहीं बताएँगे, बोलेंगे जाकर देख आओ” और सरपंच जी बोलते हैं “ जैसा तुमको ठीक लगे वैसा करो यार”.तो इस पूरे इंट्रोडक्शन का सार यह है कि लल्लनटॉप जैसा लिखता है वैसा ही दिखता है.

आइये आपको The लल्लनटॉप की टीम से रूबरू कराते हैं:

सौरभ द्विवेदी– हम हैं लल्लनटॉप

12801688_10154213791248243_8135169094836311126_n

 

दुनिया में तीन शहर हैं. मुंबई, दुबई और उरई. ये दुबे उरई से है. सौरभ कहते हैं कि वह किसान बनेंगे, साहित्य से उनका वास्ता बहुत देर से पड़ा पर मैं बता दूँ कि इस आदमी के बोलने पर न जाइयेगा, जब वो कहीं और शून्य में देखते हुए बोलते हैं तो वो ऐसी गहरी बात कह जाते हैं जो आपको कुछ सोचने पर, पीछे मुड़कर देखने पर मजबूर कर देगी. अपने को खुरदुरेपन का आशिक. भाषा और सभ्यता के लिहाफ और हर तरह की चिकनाहट से दूर मानते हैं . ‘सौरभ से सवाल’ कॉलम का धरता कर्ता.सौरभ सरपंच को हम देते हैं “हम हैं लल्लनटॉप” का ख़िताब .

सौरभ का सल्लू भाई, ममता कुलकर्णी  वाला आर्टिकल ज़रूर पढ़ें और कुछ सीरियस सुनना हो तो “अगर तुम लेखक बनना चाहते हो” को सुनें, उनकी आँखें बोलती हैं इस कविता के पाठ में.

कुलदीप सरदार – अबे हम हैं लल्लनटॉप

kuldeep

जीरो फिगर पर करीना कब से मूव on कर चुकी हैं पर कुलदीप अभी भी टिके हुये हैं. पर इनके वजन पर मत जाइयेगा, आप कुलदीप से ५ मिनट बात करेंगे तभी आप जान जायेंगे कि लल्लनटॉप इतने कम समय में इतना सफल कैसे हो गया, कुलदीप और उनकी पूरी टीम के आँखों में दीखता है लल्लनटॉप के लिये प्यार- वो पहला प्यार जैसा. काटते हैं, मगर मीठे में. कोई छेड़ता है तो मुरव्वत से पूछते हैं, ‘अबे टोपा हो का? और बिना किसी लाग लपेट के कहते हैं कि हमें कुछ नया करना होगा आने वाले समय में, सिर्फ बकैती नहीं चलेगी ज्यादा दिन तक. यूँ कि बड़े बुजुर्ग कह गये हैं कि अगर आप अपने सबसे बड़े सेल्फ क्रिटिक हो तो सफलता कभी नहीं भागेगी और सरदार इसे समझता है. इसीलिये “अबे हम हैं लल्लनटॉप “का टाइटल कुलदीप को .

विकास टिनटिन – असली लल्लनटॉप तो रवीश कुमार हैं

vikas_110416-110209-150x150

 

बिट्टू ये बालक सीलमपुर का सल्लमसौंटा है. लिजलिजे ह्यूमर का मालिक. जब तक मुस्का रहा है ठीक है. उंगली करोगे तो ले लेगा, मौज. अकेले घूमता है और प्रेमी बनना चाहता है. मगर कामयाबी विश्व शांति की तरह कोसों दूर है. बालों से इम्तियाज अली दिखने की कोशिश. टीम का पाकिस्तान स्पेशलिस्ट. इसके सामने ‘नमस्कार मैं रवीश कुमार’ को कुछ न कहिना बे, वर्ना फेरीभैंटोला टाइप की कोई गाली देता है. पैशन प्लस का गर्वीला सवार. बस उसमें ‘बिरिक’ कम लगती है.

आशीष दैत्य – बहुत बोल लिये सब, अगर तुम लोग लल्लनटॉप हो, तो हम कौन हैं

ashish

 

बेट्टा आशीष प्रदीप वो चीज है जो चुआ देता है तो स्टेटस बन जाता है. चार साल से कमिटेड है. मुस्कियाने पर मसूड़ों में इत्ती जगह बन जाती है कि परचून की दुकान खुल जाए. कहता है- मैं लिख लेता हूं, समझा नहीं पाता हूं क्योंकि मेरी लार चू जाती है. 6 फीट 2 इंच ऊपर से. इंजीनियरिंग, बैंक एग्जाम की कोचिंग और फेसबुक पर सटायर करते हुए यहां पहुंचा. सुन सब लेता है लेकिन साल में एकाध बार बमक जाता है तो बघेली में गरियाता है. एक्स्ट्रा रोटी खानी पड़े तो पानी से लील लेता है. तकनीकी की ताक धिन से सेटिंग है. बड़े होकर शादी करने का सपना है.

आशुतोष चचा – कुछ भी कर लो बेटा, मचाने वाले लल्लनटॉप तो हम ही हैं

ashutosh

द लल्लनटॉप में स्टार पॉवर आशुतोष चचा का है ऐसा सुनने में आता है, धारदार वन लाइनर्स इनके धोबी पछाड़ हैं. इनसे किसी ने ग्रुप में पूछा :ज़रा बताओ तो मैडम को कितने फोलोवर्स हैं फेसबुक पर तो शर्माते हुये कहते हैं “ 5000+” एक भोजपुरी मुस्कान के साथ.अमेठी से हैं, जहां सत्ता पनारे में बहती थी. झोला उठाकर मोदी के क्योटो गए और फिर केजरीवाल की दिल्ली आ गए. बदन से गांव को खुरचने का हड़बोंगपन सवार नहीं हुआ है. भुच्च देहाती सेंस ऑफ ह्यूमर. गर्लफ्रेंड ने तखल्लुस दिया था ‘उज्ज्वल’. वो चली गई, तखल्लुस रह गया. इनके फेसबुक पेज पर ज़रूर जायें, लाफ्टर थेरेपी की खुराक वहीँ से लीजिये,अपने सेंस ऑफ़ ह्यूमर से मचा दिया है आशुतोष ने.

प्रतीक्षा पीपी – यूँ कि ये किसने कहा कि लल्लनटॉप कोई मर्द है

Prateeksha

बाकी सभी एक तरफ और प्रतीक्षा का satire एक तरफ. जेंडर पैरिटी की कोई चिंता न करें, ये नारी सब पर भारी है.कहती हैं कि मीडिया में बस यूँ ही आ गये और जब ये आ ही गयी हैं तो पोस्टर फाड़ के आई हैं. फेमिनिस्ट मुद्दों पर तार तार करती हैं. अगर आपने प्रतीक्षा का भाई – बहन वाला आर्टिकल नहीं पढ़ा तो बुरबक पढ़ा क्या है:

 

 

 

मिहिर पंड्या – क्यूंकि पिक्चर अभी बाकी है लल्लनटॉप

Mihir

जब मैं साक्षात् के लिये लल्ल्नटॉप के ऑफिस गयी थी तब मिहिर नहीं थे टीम में, अभी कुछ दिन पहले ही शामिल हुये हैं और सिनेमा पर लिखते हैं. अगर आप फिल्में देखना पसंद करते हैं, सिनेमा पर बात करते हैं और हाथ में दैनिक भास्कर आने पर सबसे पहले जय प्रकाश चौकसे का कॉलम पढ़ते हैं तो आपको मिहिर को ज़रूर पढ़ना चाहिये. अगर आप सलमान की एंट्री पर सीटियाँ बजाते हैं,कौन सा नया ट्रेलर आया ये सर्च करते हैं और फिल्में आपके जीवन का एक अभिन्न हिस्सा हैं तब तो आपको मिहिर को ज़रूर से पढना चाहिए .सिनेमा पर इनका लिखा हर पीस शानदार होता है. एक ओपन सीक्रेट है कि सिनेमा में स्ट्रोंग फीमेल करैक्टर के प्रति बायस्ड हैं मिहिर. कंगना को लिखा इनका खुला ख़त हर लड़की को पढ़ना चाहिये, क्यूंकि हर देश में आँसू का रंग एक ही होता है

रजत सैन : बना लो तुम सब लल्लन, टॉप तो मेरे कैमरा का कमाल है 

Rajat

जितनी प्यारी रजत की मुस्कराहट है, उतनी ही बेहतरीन उनकी फोटोग्राफी. लल्लनटॉप के विडियो और फोटो के पीछे का नाम है रजत.रजत कहते हैं कि इन सब के साथ रहते हुये वे भी थोडा बहुत लिखने लगे हैं. और जो लिखने लगे हैं तो साड्डा पंजाब पे अच्छा लिखते हैं.

इसके अलावा लल्लनटॉप पर दिव्य प्रकाश दुबे की ” सन्डे वाली चिठ्ठी” को पढ़ना तो सन्डे जितना ही जरुरी है. क्यूँ पढ़े? सब हम यहीं बता दें तुम्हें… तो तुम पढ़ोगे क्या ?

 

 

लल्लनटॉप जितना रोचक है उतना ही उसका नामकरण भी.सौरभ अपने बचपन का एक किस्सा बताते हैं कि उनका एक भाई फ़ौज में जाना चाहता था.पर उसकी एक दिक्कत थी वह ज्यादा दूर तक दौड़ नहीं पाता था, डॉक्टर को दिखाया तो पता चला नाक की एक हड्डी लम्बी होने की वजह से यह समस्या आ रही थी. उनके चाचाजी ने भाई से कहा “बस एक छोटी सी सर्जरी होगी और तुम पूरे लल्लनटॉप हो जाओगे”. “ बाल नरेन्द्र” की तरह बाल सौरभ भी बचपन से ही सबसे अलग थे, नहीं नहीं उन्होंने किसी मगरमच्छ को नहीं मारा था पर उसने इस शब्द को धर लिया और आगे चलकर हिंदी को The लल्लनटॉप मिला.

सवाल : लल्लनटॉप कैसे और क्यूँ?

सौरभ : दी लल्लनटॉप से पहले मैंने 8- 9 साल स्टार न्यूज़, नवभारत टाइम्स, दैनिक भास्कर में काम किया. पर हमेशा लगता था कि हिंदी जर्नलिज्म में कुछ ऐसा लाया जाये जिसमें मास अपील हो, जो इंगेजिंग हो, एंटरटेनिंग हो. जो नये आइडियाज पर आधारित हो, जिसकी भाषा घिसी हुई चमकीली न हो, जिसमें कृत्रिम गुरुता का बोध न हो.जिसकी भाषा………(थोड़ा सोचते हुये) 80s की खालिस भाषा हो जैसे प्रभाष जोशी की भाषा, जैसे मालवा की बोली.

(सौरभ अब किसी शून्य में देखने लगते हैं , जिसके बारे में पहले ही वार्निंग दे दिया गया था, अब वो कवि बन जाते हैं)

देखिये तराजू स्थिर रहता है, निगाह हट जाती है. लल्लनटॉप कोशिश है कि वो निगाह न हटे.

सवाल : लल्लनटॉप की शुरुआत कैसे हुई?

सौरभ : लल्लनटॉप सोच की शक्ल में सबसे पहले विकास (जो मेरा बायाँ हाथ हैं) ,कुलदीप (जो मेरा दायाँ हाथ हैं) और मेरे दिमाग में आया. हम तीनों मानते थे कि ज्ञान को सत्ता के बरक्स खड़े रहना चाहियेऔर यहाँ ज्ञान का तात्पर्य पत्रकारिता से है. पत्रकार भी तो एक स्टोरी टेलर है, कलाकार है, उसे सिहांसन का मद नहीं होना चाहिये.

13012764_10154257832553243_7030825818651521883_n

तो हम तीन जर्नलिस्ट दोस्त और तीन नॉन-जर्नलिस्ट लोग प्रतीक्षा (फेसबुक पर लिखती थी प्रतीक्षा,बहुत ही ब्लंट, मारक किस्म का), आशुतोष (बनारस में रहते थे और फेसबुक पर इनके वन लाइनर्स गाँव का देहात का ह्यूमर लिये हुये थे) और आशीष (जो भी फेसबुक पर हार्ड हिटिंग लिख रहे थे) मिले और 6 दिसम्बर को आ गया लल्लनटॉप.

इसी टीम में बाद में हमारे विडियो एक्सपर्ट्स केतन और रजत की एंट्री हुई.

सवाल: लल्लनटॉप के पीछे की सोच, कन्विक्शन क्या थी?

सौरभ: कन्विक्शन एक ही थी, हिंदी जर्नलिज्म के मिथ को तोड़ना है. यहाँ ज्ञान से मेरा मतलब पत्रकारिता से है. मद,सिंहासन ये सब तो सता पर काबिज़ लोगों के लिये है, कलाकार को खडाऊ से ज्यादा क्या चाहिये.पत्रकारिता कैसी हो. राज प्रसाद में बैठे स्वर्ण सिंघासन के पाए की तरह. चंवर डुलाने वाले की तरह. बगल में बैठकर राजा की हां में हां मिलाने वाली. या फिर महल से बाहर सम भाव के साथ राज्य को, तंत्र को निहारने और निथारने वाली. जो कभी राजसत्ता में घुसे तो खड़ाऊं बन, निर्मोही संन्यासी की तरह. जिसके चलने की आवाज से चंवर रुक जाएं. जयकार थम जाएं सिर्फ कठोर और जटिल सत्य का संधान हो.

सोच की बात करूँ तो “We live with the choices we make”, हम वही लिखते हैं जिस पर हम यकीन करते हैं. हम कंटेंट के स्तर पर गंभीर नहीं बहुत गंभीर हैं. मगर हमारी गंभीरता आवरण भर की नहीं है. हम सरोकारी पत्रकारिता जैसे मुहावरे नहीं फेंकते. बल्कि उसे अपनी खबरों में अमली जामा पहनाते हैं.

सवाल : सौरभ के बारे में कुछ बताइये?

सौरभ : सौरभ ने संघ के विद्यालय में पढ़ाई की,उरई में उसने देस को समझा,JNU में देश को. बचपन में मनोहर कहानियाँ, कॉमिक्स, माया, इंडिया टुडे पढ़ने का बेहद शौक. JNU में आकर जाना कि पढ़ने के लिये, सीखने के लिये और जीने के लिये कितना कुछ है. सौरभ को उदय प्रकाश, असगर वजाहत, मनोहर श्याम जोशी, निर्मल वर्मा,राही मासूम रज़ा, कुंवर नारायण, विनोद कुमार शुक्ल को पढना पसंद है. सौरभ मार्खेज़ के सपना,हकीकत और रूमानियत में जीता है.

13466155_10154406247273243_3505239209191475537_n

एक रोज अनुराग कश्यप भी इनसे  मिलने चले आए. बोले लल्लनटॉप मजेदार लगता है, इसलिए आ गया.

(यहाँ मैं सौरभ के डेस्क एक फोटो फ्रेम पर ठिठक जाती हूँ . फोटो फ्रेम पर दो कपल्स की फोटो हैं, elderly कपल्स की. Homo sapiens होने की पहली निशानी – पूछना चाहती हूँ कि यह दो तसवीरें क्यूँ?

पर अपने को समझाती हूँ, यहाँ तो मैं “साक्षात” का अगला इंटरव्यू लेने आई हूँ. पर जिज्ञासा तो जिज्ञासा है, आदि काल से कब कौन इससे मुक्त हो पाया है. फिर सौरभ बताते हैं कि इस तस्वीर में एक कपल माता-पिता हैं, तो दूसरे सास- ससुर. आज जब gender equality सिर्फ नारों, स्टेटस अपडेट और फोटोज में सिमट कर रह जाती है और सोशल मीडिया पर अपने धारदार शब्दों से क्रांति ला देने वाले अक्सर अपने घर के सोफे पर बैठते हुये जब सिर्फ पुरुष बन जाते हैं वहां यह फोटो फ्रेम ज़िन्दगी के उन छोटे snippets की तरह है जो साथ और साझा के बीच का फासला तय कराते हैं. अपने माँ बाबा की तरह अपने साथी के माँ बाबा को प्यार करना, कहने में यह बात जितनी स्वाभाविक लगे,पर बहुत कम ही देखने को मिलता है.

कभी कभी कहानियों की तलाश में हमारे हाथ कुछ खूबसूरत सीपी लग जाते हैं जिन्हें हम संजो कर रखना चाहते हैं, उन्हीं में से एक है किताबों के बगल में रखा वो फ़ोटो फ्रेम.

 

(अब सौरभ उसी शून्य में देखने लगते हैं………अब बात निकली है गुंजन की तो दूर तलक जायेगी)

सौरभ : गुंजन मेरी सबसे अच्छी दोस्त, क्रूरता की हद तक मेरी सबसे कठोर आलोचक, मेरे होने के पीछे का सबसे बड़ा संबल, मुझे grounded रखने की सबसे बड़ी ताकत और मेरी धर्मपत्नी है. हम दस सालों से एक दूसरे को जानते हैं. मुझे लगता है कि जब एक आदमी और औरत शादी के बंधन में टाइम और स्पेस शेयर करते हैं तो सबसे ज़रूरी है कि उनकी बातें कभी कम न हों, शारीरिक आकर्षण तो कम भी हो सकता है समय के साथ. मगर दिमागी आकर्षण और उससे निकसने वाले कौतुहल, संवाद कभी खत्म न हों.मेरी पत्नी में मेरी वो दोस्त है जिसके साथ मैं पूरा दिन गप्पे मार सकता हूँ.

(सौरभ और गुंजन का ऋषिकेश मुख़र्जी की फिल्मों जैसा सीधा और प्यारा रिश्ता, इस साक्षात् का मेरा एक और टेकअवे रहा )

10411832_10153067595763243_6466863199082901855_n

सवाल : आपसे कोई पूछे कि लल्लनटॉप क्या है ?

सौरभ : लल्लनटॉप महज कीबोर्ड की खटखटाहट नहीं है, उस बच्चे की इसरार है जिसने नयी फिरकी बनाई है और अपने दादू को दिखाना चाहता है- मासूम, ईमानदार, तालाब की मिट्टी जैसा और विनम्र . यह पालतू होने के खिलाफ एक कोशिश है . लल्लनटॉप में ठस है पर यह किसी को ठेस नहीं पहुँचायेगा. लल्लनटॉप ढीठ है पर इसकी ढिठाई भी मीठी है. मीडिया में मारना आसान है, मनवाना कोई नहीं चाहता, लल्लनटॉप में हमारी कोशिश है कि हम आपको मनवाएं कि हिंदी में भी मजेदार लिखा जा रहा है.

हम चाहते हैं कि सीधी सरल सड़कछाप भाषा में रोहिंग्या मुसलमानों से लेकर ट्रंप तक, यूपी की पॉलिटिक्स से लेकर बंबइया सिनेमा तक. हर चीज पर बात हो. मगर पाठक को डराने या फंसाने के लिए नहीं. उसे वाकई में जानकारी और संवेदना से लैस करने के लिए

सवाल : लल्लनटॉप को आप आने वाले समय में कहाँ देखते हैं?

सौरभ : देखिये मेरा मानना है कि कि ये जो सेकंड वर्ल्ड की बात हम करते हैं, यह वर्चुअल वर्ल्ड है. हिंदी के मठाधीशों के कारन हिंदी वाले रुदाली की तरह रोते रहते हैं.  हम चाहते हैं कि लल्लनटॉप बाज़ार की घिंची पकड़ ले, और वह हिंदी भाषा का दुनिया का सबसे जटिल, सबसे जिंदा और इमानदार ब्रांड बने.

 

शुक्रिया सौरभ

शुक्रिया आपका पूजा.

मैं अब बाकी की टीम के साथ लंच करने बाहर निकली हूँ, सौरभ इंटर्नशिप के इच्छुक लोगों का इंटरव्यू लेते हैं. हम बाहर जाते हैं और परांठे आर्डर करते हैं. कुलदीप मुझे दूसरे मीडिया हाउस की लकीरों और लल्लनटॉप के खुले आसमान के बारे में बताते हैं पर उस गोल से टेबल के चारों ओर हँसी, खिलखिलाहट, एक दूसरे की टांग खींचना बदस्तूर जारी है. मैं रजत से पूछती हूँ कि क्या वो खुश है – वह कहता है कि पापा ने कभी खुद से तो नहीं कहा पर दीदी बताती हैं कि पापा मम्मी चंडीगढ़ में लल्लनटॉप को पढ़ते हैं और बहुत प्राउड फील करते हैं.

मैं सबसे विदा लेती हूँ और जानती हूँ कि यही है लल्लनटॉप –रजत की आँखों में दिखती मुस्कराहट, आशुतोष का देसी ह्यूमर, प्रतीक्षा का ब्लंट फेमिनिस्म और उस फोटो फ्रेम के पीछे झाँकती ज़िन्दगी. बेहिसाब दोस्ती की बेबाक आवाज़ है लल्लनटॉप.

P.S- इस लल्लनटॉप के लिये मैं शुक्रगुज़ार हूँ – दिल्ली मेट्रो का जिन्होंने मुझे ऑलमोस्ट आधे दिन में द्वारका से नोयडा पहुँचाया, विक्रम का जिनके साथ बैठकर इस साक्षात् के बाद मैंने आर्ट और पेंटिंग पर कोल्ड कॉफ़ी के न जाने कितने कप ख़त्म कर दिये और राहुल का जो साक्षात् के पीछे की सोच हैं.